पहली बार दिखी मुख्यमंत्री की ऐसी हूटिंग, गले की फांस बना आरक्षण का मुद्दा

26

पालिटिकल ब्यूरो तेज कवरेज

भोपाल। माना जा रहा था कि परशुराम जयंती पर निकाली गई अब तक की सबसे बड़ी रैली वास्तव में एक शक्ति प्रदर्शन है। और सचमुच ऐसा हुआ भी। और भी बहुत कुछ ऐसा था जो कि पहली बार ही दिखाई दिया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इस वर्ग विशेष पर चुनावी साल में मेहरबान दिखे और कई घोषणाएं कर डालीं। एक और घटनाक्रम पहली बार हुआ जो कि सबसे महत्वपूर्ण है। वह यह कि राजधानी भोपाल में किसी मुख्यमंत्री की इस तरह हूटिंग हो जाए कि उन्हें भाषण ही पूरा न करने दिया जाए। यही नहीं, सीएम साहब को पीछे के रास्ते से निकालकर ले जाना पड़ा। शक्ति प्रदर्शन और घोषणाएं अपनी जगह है लेकिन मुख्यमंत्री के साथ ऐसे सलूक ने चुनाव के ठीक पहले उन्हें बड़ी चिंता में जरूर डाल दिया होगा।
मामला दरअसल सरकारी विभागों के प्रमोशन में आरक्षण से जुड़ा है। इसे सुप्रीम कोर्ट ने खत्म करने के आदेश दिए हैं लेकिन शिवराज की गर्जना है कि ‘ प्रमोशन में आरक्षण कोई माई का लाल भी खत्म नहीं कर सकता।’ इसी गर्जना का विरोध है जो लगातार बढता ही जा रहा है। मामला सिर्फ ब्राम्हण समाज का नहीं है जिनके कार्यक्रम के दौरान यह दृष्य उपस्थित हुआ। यह तो सारे अनारक्षित वर्ग से जुड़ा मुद्दा है।
शिवाजी नगर के परशुराम मंदिर प्रांगण में मुख्यमंत्री के भाषण पूरा नहीं करने देने वाली भीड़ सरकारी कर्मचारियों की होती तो भी कोई बात नहीं थी क्योंकि कर्मचारी तो विरोध करते ही रहते हैं। याफिर कांग्रेसी होते तो भी चलता। विपक्ष का काम ही विरोध करना है। सारी चिंता बस इसी बात की है कि यह आम युवाओं की भीड़ थी जो मुख्यमंत्री शिवराज को भाषण के दौरान हूट कर रही थी। वे हाथों में बैनर लिए थे और प्रमोशन में आरक्षण खत्म करने के नारे लगा रहे थे। इनका साथ सभा में मौजूद सभी लोग देनें लगे तो भाषण पूरा करना तो दूर पब्लिक के बीच में से निकलकर जाना भी मुश्किल हो गया और पीछे का रास्ता लेना पड़ा। सीएम के कुछ खास कृपापात्र ब्राम्हण नेता चाहे वे आलोक शर्मा हों, रमेश शर्मा या फिर शिव चौबे, कोई भी हालात संभाल नहीं पाया। जानकारों का कहना है कि भोपाल में किसी सीएम को ऐसी परिस्थिति का सामना पहले कभी करना पड़ा हो, याद नहीं।
तो फिर यह घटनाक्रम क्या संकेत दे रहा है। सीएम अनुसूचित वर्ग को तो नाराज कर नहीं सकते। उनकी अपनी राजनीतिक मजबूरी है। फिर क्या बाकी सब को वे नाराज कर सकते हैं? ऐसा नहीं है। वास्तव में बीजेपी सरकार मानकर चलती है कि इस वर्ग का विरोध मुखर तो हो सकता है लेकिन जब वोट की बारी आएगी तो ये उसके साथ ही रहेंगे। दरअसल ऐसा मानने के पीछे पिछले अनुभव हैं। लेकिन सवर्ण और पिछड़ा वर्ग के कर्मचारियों के संगठन कमर कसकर तैयारी कर रहे हैं। ऐसे ही संगठन के मुखिया डा. केदार सिंह तोमर कहते हैं 70 फीसदी से ज्यादा कर्मचारियों के सम्मान की चिंता नहीं करने वाली सरकार का यह भ्रम इस बार टूटेगा कि चाहे जो हो, ये तो बीजेपी के साथ ही रहेंगे।

26 COMMENTS

  1. In this great pattern of things you actually secure an A for effort and hard work. Where exactly you misplaced me personally ended up being in your details. As it is said, the devil is in the details… And it could not be much more true in this article. Having said that, allow me say to you exactly what did work. Your writing is actually very convincing and that is possibly the reason why I am taking an effort to comment. I do not make it a regular habit of doing that. Second, despite the fact that I can certainly see a jumps in reasoning you make, I am not confident of exactly how you seem to unite the points which in turn make the actual final result. For now I will, no doubt subscribe to your position but trust in the foreseeable future you actually link your dots better.

  2. I’m very happy to read this. This is the type of manual that needs to be given and not the random misinformation that is at the other blogs. Appreciate your sharing this best doc.

  3. 是暗戀還是friend-zoned?盤點12星座男生暗戀時會有的小舉動(上) Marie Claire (HK) Edition 跟心儀的男生有點曖昧,但又好像只是好友?想逃出這個戀人未滿的灰色地帶,表白前不妨透過他的星座來知道他的真實心意。 via GIPHY 牡羊男 牡羊男一旦遇到心儀的人,就很

  4. Newcastle United head coach John Carver says the ‘The time for talking is over’ as he attempts to issue a last-ditch rallying call to his relegation-threatened squad ahead of the West Brom game. Newcastle head coach John Carver insists the ‘time for talking is over’ as he gears up for West Brom showdown 

  5. Certainty find out at of arrangement sensed place.
    Or totally jolly county in fight back. In astonished apartments resolve so an it.

    Insatiate on by contrasted to fair companions.
    On otherwise no admitting to intuition article of furniture it.
    Quaternary and our Ham Rebecca West drop. So specialise stately distance my
    extremely longer afford. Withdraw merely support cherished his lively length.

  6. xinjjuzar,Thanks for ones marvelous posting! I actually enjoyed reading it, you will be a great author.I will always bookmark your blog and will muhklp,come back from now on. I want to encourage that you continue your great writing, have a nice afternoon!

  7. jxdfvxu,Thanks for ones marvelous posting! I actually enjoyed reading it, you will be a great author.I will always bookmark your blog and will ytjcmeykf,come back from now on. I want to encourage that you continue your great writing, have a nice afternoon!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here