छत्तीसगढ़ में भूपेश बजट की मुख्य बातें

0

रायपुर छत्तीसगढ़

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गांव-गरीब-किसान-युवा-महिलाओं पर केन्द्रित बजट पेश किया है…
भूपेश ने कहा कि यह किसानों का बजट है. हमने कृषि कल्याण की ओर ध्यान दिया है.
कृषि लागत मूल्य में कमी लाने के लिए सरकार ने प्रयास किया है.
इसकी शुरुआत में कृषि ऋण माफी के साथ हो गई है.
हमने 61 सौ करोड़ किसानों के कर्ज के साथ 4 हजार करोड़ के अल्पकालीन कृष ऋण को माफ किया है.
हमने 25 सौ रुपये समर्थन मूल्य धान खरीदी का निर्णय लिया है.
प्रथामिकता वाले योजनाओं पर ध्यान हमने दिया है
राज्य के सकल घरेलु उत्पाद में वृद्धि अनुमानित है
2018-2019 में राज्य के सकल घरेलू आय में 6.08 फीसदी की वृद्धि अनुमानित हैं.
2018-19 में कृषि भाव मे स्थिर क्षेत्र में 3.9 फीसदी वृद्धि अनुमानित हैं. सेवा क्षेत्र में वृद्धि दर 6.9 फीसदी अनुमानित हैं
👉कृषि ऋण माफ करने के लिए 5 हजार करोड़ का प्रावधान
👉गरीब परिवारों को 35 किलो चावल देने के लिए 4 हजार करोड़ का प्रावधान
👉25 सौ रुपये समर्थन मूल्य के लिए 5 हजार करोड़ का प्रावधान
👉बिजली बिल हाफ के लिए 4 सौ करोड़ का प्रावधान
👉विधायक निधि की राशि बढ़ाकर 1 करोड़ से बढ़ाकर 2 करोड़ किया गया
👉आरक्षक से लेकर निरीक्षक तक के भत्ते के लिए 45 सौ करोड़ का प्रावधान
👉एससी-एसटी छात्रों के लिए छात्रवृत्ति 1 हजार प्रतिमाह,
मध्यान भोजन के लिए रसोईयों को अब प्रतिमान 15 सौ रुपये मिलेगा
👉गिरौदपुरी और भंडारपुरी और दामाखेड़ा में विकास के लिए 5-5 करोड़
👉व्यवसायिक बैकों में बांटे गए 4 हजार करोड़ का अप्लपाकलीन कृषि ऋण माफ
👉किसानों के 207 करोड़ का सिंचाई कर माफ।किसानों की आय बढ़ाना सरकार की प्राथमिकता।गन्ना किसानों को 10 करोड़ का बोनस दिया जाएगा
मक्का खरीदी की व्यवस्था को पुख्ता किया जाएगा।फसल बीमा योजना में बढ़ोत्तरी
बेमेतरा में नवीन कृषि महाविद्यालय खोला जाएगा ।कृषि विकास के लिए 21 हजार करोड़ का प्रावधान ।
👉 तेंदूपत्ता संग्रहन की राशि 25 सौ से बढ़ा कर 4 हजार कर दी है

—भूपेश का बजट ….
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गांव-गरीब-किसान-युवा-महिलाओं पर केन्द्रित बजट पेश किया है…
भूपेश ने कहा कि यह किसानों का बजट है. हमने कृषि कल्याण की ओर ध्यान दिया है. कृषि लागत मूल्य में कमी लाने के लिए सरकार ने प्रयास किया है. इसकी शुरुआत में कृषि ऋण माफी के साथ हो गई है. हमने 61 सौ करोड़ किसानों के कर्ज के साथ 4 हजार करोड़ के अल्पकालीन कृष ऋण को माफ किया है. हमने 25 सौ रुपये समर्थन मूल्य धान खरीदी का निर्णय लिया है. प्रथामिकता वाले योजनाओं पर ध्यान हमने दिया है ।राज्य के सकल घरेलु उत्पाद में वृद्धि अनुमानित है ।2018-2019 में राज्य के सकल घरेलू आय में 6.08 फीसदी की वृद्धि अनुमानित हैं. 2018-19 में कृषि भाव मे स्थिर क्षेत्र में 3.9 फीसदी वृद्धि अनुमानित हैं. सेवा क्षेत्र में वृद्धि दर 6.9 फीसदी अनुमानित हैं ।
👉कृषि ऋण माफ करने के लिए 5 हजार करोड़ का प्रावधान
👉गरीब परिवारों को 35 किलो चावल देने के लिए 4 हजार करोड़ का प्रावधान
👉25 सौ रुपये समर्थन मूल्य के लिए 5 हजार करोड़ का प्रावधान
👉बिजली बिल हाफ के लिए 4 सौ करोड़ का प्रावधान
👉विधायक निधि की राशि बढ़ाकर 1 करोड़ से बढ़ाकर 2 करोड़ किया गया
👉आरक्षक से लेकर निरीक्षक तक के भत्ते के लिए 45 सौ करोड़ का प्रावधान
👉एससी-एसटी छात्रों के लिए छात्रवृत्ति 1 हजार प्रतिमाह,
मध्यान भोजन के लिए रसोईयों को अब प्रतिमान 15 सौ रुपये मिलेगा
👉गिरौदपुरी और भंडारपुरी और दामाखेड़ा में विकास के लिए 5-5 करोड़
👉व्यवसायिक बैकों में बांटे गए 4 हजार करोड़ का अप्लपाकलीन कृषि ऋण माफ
👉किसानों के 207 करोड़ का सिंचाई कर माफ।किसानों की आय बढ़ाना सरकार की प्राथमिकता।गन्ना किसानों को 10 करोड़ का बोनस दिया जाएगा
मक्का खरीदी की व्यवस्था को पुख्ता किया जाएगा।फसल बीमा योजना में बढ़ोत्तरी
बेमेतरा में नवीन कृषि महाविद्यालय खोला जाएगा ।कृषि विकास के लिए 21 हजार करोड़ का प्रावधान ।
👉 तेंदूपत्ता संग्रहन की राशि 25 सौ से बढ़ा कर 4 हजार कर दी है

बजट भाषण
किसानों के बकाया ऋण माफ करने के लिए 207 करोड़ के प्रावधान रखा गया है
15 लाख किसानों को फायदा होगा
नई सिचाई योजना के 300 करोड़ का प्रावधान
नरवा गरवा घुरवा बाड़ी को संरक्षित करने के लिए मनरेगा योजना के तहत 1542 करोड़ का प्रवधान रखा है
कौशल विकास के लिए 306 करोड़
गरीब परिवार के हर व्यक्ति को 35 किलो चावल देने के
लिए मुख्यमंत्री खाद्यान योजना के तहत 4 हजार करोड़ का प्रावधान रखा गया है
—-
-बजट भाषण …

2500 रुपए क्विंटल में धान खरीदने के लिए बजट का प्रावधान किया है
हम राज्य के आर्थिक विकास के संकल्पित है ।
25 सौ क्विंटल धान खरीदी के लिए बजट में 5 हजार करोड़ का प्रवधान रखा
,प्रत्येक व्यक्ति के लिए 35 किलो चांवल देने ,
बिजली हाफ करने लिए बजट प्रावधान रखा गया
।विधायक निधि राशि एक करोड़ से बढ़ाकर 2 करोड़ कर दिया है
इसके लिए 182 करोड़ का प्रावधान रखा गया है
——-

रायपुर-भूपेश का बजट भाषण ….

जनता की गाढ़ी कमाई की एक एक पाई जनकल्याण में लगाई जाएगी
हमारी अर्थ व्यवस्था कृषि पर आधारित है
इसलिए बजट किसानों पर आधारित है
छत्तीसगढ़ में धान की पैदावार में कमी है
हमने किसानों का ऋण माफ किया है
इसलिए हमने समुचित बजट का प्रावधान रखा है